चुनौतीपूर्ण है पत्रकार बनना : समरवीर सिंह

Spread the love

अलीगढ़। मंगलायतन विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग द्वारा सोमवार को हिंदी पत्रकारिता दिवस पर संगोष्ठी का आयोजन ईएमपीसी स्टूडि्यों में किया गया। कार्यक्रम का विषय “हिंदी पत्रकारिता : रोजगार व चुनौतियां” था। कार्यक्रम में वक्ताओं द्वारा हिंदी के पहले अखबार उदंत मार्तंड व हिंदी पत्रकारिता के इतिहास पर प्रकाश डाला गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ विद्यादायनी मां सरस्वती के सम्मुख अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वलित करके किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि शिक्षाविद/वरिष्ठ पत्रकार शिवओम शर्मा ने कहा कि पत्रकार शासन व जनता के बीच सेतु का काम करता है। पहले एक दौर था जब चुनिंदा पत्रकार होते थे आज पत्रकारिता में रोजगार की कोई कमी नहीं है। लेकिन उसके लिए स्वयं को साबित करने की आवश्यकता है। रजिस्ट्रार ब्रिगेडियर समरवीर सिंह ने कहा कि लेखक होना गौरव की बात हैपत्रकार बनना चुनौतीपूर्ण है। आज पत्रकारिता में शोध की आवश्यकता हैहालांकि रोजगार के साथ चुनौतियां कम नहीं हैं। एक अच्छे पत्रकार को टीआरपी से ज्यादा देशदुनिया की चिंता करनी चाहिए। कृषि विभागाध्यक्ष डॉ. दानिश नकवी ने कहा कि पत्रकार को अपनी नैतिक जिम्मेदारी का ईमानदारी से पालन करना चाहिए। पाठकों की भी जिम्मेदारी है कि वह क्या पढ़ना पसंद करते हैं। योगेश कौशिक ने कहा कि आज पत्रकारिता से ही लोकतंत्र जिंदा है। अंत में अध्यक्षीय संबोधन में विभागाध्यक्ष डॉ. संतोष गौतम ने सभी को हिंदी पत्रकारिता दिवस की शुभकामनाएं दी। उन्होंने हिंदी पत्रकारिता के इतिहास पर विस्तार से प्रकाश डाला। छात्रा दिव्या शर्मा व छात्र सचिन गुप्ता ने भी अपने विचार रखे। संचालन छात्रा शैलेष्टी पंडित एवं संयोजक मयंक जैन ने आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर प्रशासनिक अधिकारी गोपाल सिंह राजपूतनौहबत सिंहजितेंद्र शर्माविकास वर्मामुकेश ठेनुआं के साथ ही छात्र-छात्राएं भी उपस्थित रहे।

Related posts

2 Thoughts to “चुनौतीपूर्ण है पत्रकार बनना : समरवीर सिंह”

  1. Great info and right to the point. I don’t know if this is truly the best place to ask but do you people have any thoughts on where to employ some professional writers?
    Thank you 🙂 Escape roomy lista

  2. Heya i’m for the primary time here. I came across this board and I find It truly helpful & it helped me out a lot.
    I hope to offer one thing back and help others such as you aided me.

Leave a Comment